पं. श्रीराम शर्मा आचार्य के शिक्षा दर्शन का मूल्य-उन्मुखीकरण पर प्रभाव: एक अध्ययन
PDF

Keywords

शिक्षा-दर्शन
मूल्य-उन्मुखीकरण

How to Cite

बिहारियान., & बिहारियाअ. (2012). पं. श्रीराम शर्मा आचार्य के शिक्षा दर्शन का मूल्य-उन्मुखीकरण पर प्रभाव: एक अध्ययन. Dev Sanskriti Interdisciplinary International Journal, 1, 21-28. https://doi.org/10.36018/dsiij.v1i.7

Abstract

प्रस्तुत शोधपत्र का मुख्य उद्देश्य पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के शिक्षा दर्शन का मूल्य उन्मुखीकरण पर पड़ने वाले प्रभाव को देखना है। इस अध्ययन में आकस्मिक प्रतिचयन विधि द्वारा प्रज्ञा शिशु मन्दिर, सोंडका, रायगढ़ (छत्तीसगढ़) से 16 से 25 वर्ष की आयु के 100 विद्यार्थियों का चयन किया गया, जिसमें 30 छात्र एवं 30 छात्राएँ थीं। इस शोध में एक्स-पोस्ट फैक्टो रिसर्च डिजाइन का प्रयोग किया गया और आँकड़ों के संग्रहण के लिए डाॅ. जी.पी.शेरी एवं प्रो. आर.पी.वर्मा द्वारा निर्मित व्यक्तिगत मूल्य प्रश्नावली का प्रयोग किया गया। प्राप्त आँकड़ों का सांख्यिकीय विश्लेषण टी-परीक्षण द्वारा किया गया तथा परिणामों में यह पाया गया कि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के शिक्षा दर्शन का विद्यार्थियों के धार्मिक मूल्यों, सामाजिक मूल्यों, आर्थिक मूल्यों, ज्ञान मूल्यों, आनन्द मूल्यों व शक्ति मूल्यों पर विशेष सकारात्मक प्रभाव पड़ता है तथा लोकतांत्रिक मूल्यों, सौन्दर्य ललित कला मूल्यों, पारिवारिक प्रतिष्ठा मूल्यों व स्वास्थ्य मूल्यों पर सामान्य प्रभाव पड़ता है।

https://doi.org/10.36018/dsiij.v1i.7
PDF

References

अरोरा, ममता (2008) आचार्य श्रीराम शर्मा का सर्वांग शिक्षा दर्शन एवं उनके शिक्षा संबंधी प्रयोगों का मूल्याँकन (अप्रकाशित पी-एच.डी. शोध)। कानपुर: शिक्षा विभाग, महिला प्रशिक्षण महाविद्यालय।

आचार्य, श्रीराम शर्मा (1973)युग निर्माण की रूपरेखा एवं कार्यपद्धति। मथुरा: युग निर्माण योजना प्रकाषन, पृ.14

आचार्य, श्रीराम शर्मा (1990)परिवार और उसका निर्माण (द्वितीय संस्करण)। मथुराःयुग निर्माण योजना प्रकाषन, पृ.10

आचार्य, श्रीराम शर्मा (1991) शिक्षा ही नहीं विद्या भी। हरिद्वार: शांतिकुन्ज, पृ. 5

आचार्य, श्रीराम शर्मा (2004) नैतिक शिक्षा (भाग-2)। मथुरा: युग निर्माण योजना प्रकाषन।

पाण्डेय, रामशकल (2000) मूल्य शिक्षा के परिप्रेक्ष्य में । मेरठ: सूर्या पब्लिकेशन, पृ. 52

ब्रह्मवर्चस (1991) शिक्षा और विद्या का सार्थक समन्वित स्वरूप। हरिद्वार: शांतिकुन्ज, पृ.15-16

ब्रह्मवर्चस (1998) शिक्षा एवं विद्या। मथुरा: अखण्ड ज्योति संस्थान, पृष्ठ-1.8

मालवीय, राजीव (2008)शिक्षा दर्शन एवं समाजशास्त्रीय पृष्ठभूमि। इलाहाबाद: शारदा पुस्तक भण्डार, पृ.17

Kumar, A. (2006) Rural Social Transformation: A Study of the Impact of Yug Nirman Mission Movement (Unpublished Ph.D Thesis). Meerut: Department of Sociology, Chaudhary Charan Singh University.

Mukarjee, R. (2006) A General Theory of Society. In V.L. Sharma & V.K. Maheshwari (Ed.). Paryavaran aur Manav Mulyo ke liye Shiksha. Meerut: R. Lal Publication, p. 110

Plato (1997) The Laws. In R. Dubey (Ed.). Vishwa ke Kuchh Mahan Shiksha Shastri. Meerut: Minakshi Prakashan, p. 4.

This work is licensed under a Creative Commons Attribution 4.0 International License.

Metrics

Metrics Loading ...